Padh of the Day

Sheetkaal – 17 – Lalan Jago Ho Bhayo Bhor

मैया याते भई अबेर || .. २
आवत भाज गयी एक गैया
जाय धसी बन फेर || १ ||

डोर ग्वाल सब वाके पाछे
पकरन की कर आस ||
चढकदम्ब पीताम्बर फेरयो
आय गई मो पास || २ ||

में चुचकार पीठ कर फेरयो
लहडे सुनत रसिकप्रीतमकी
मनफूली यशुमति मे || ३ ||